मेट्रो-बीआरटी स्टेशन के पास सबसे ज्यादा होगा पार्किंग शुल्क

 भोपाल। मप्र में ट्रांजिट ओरिएंटेड पॉलिसी लागू होने के बाद प्रदेश के बड़े शहरों में मेट्रो और बीआरटी स्टेशन के नजदीक यदि कार पार्क होगी तो सबसे ज्यादा शुल्क वसूला जाएगा। मेट्रो व बीआरटी कॉरीडोर के दोनों ओर आधा किमी क्षेत्र (टीओडी क्षेत्र) में निजी वाहनों के उपयोग को हतोत्साहित करने के लिए टीओडी पॉलिसी में इसका प्रावधान किया गया है।

पॉलिसी के तहत टीओडी क्षेत्रों में निजी वाहनों के उपयोग को सीमित करने के लिए अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग पार्किंग शुल्क रखे जाएंगे। पार्किंग प्रबंधन रणनीति के तहत टीओडी क्षेत्रों में तीन तरह की पार्किंग रखेगा और उसका शुल्क भी अलग रहेगा।

इसे भी पढ़ें-  कटनी पुलिस का प्रयोग: हैलमेट के साथ होगी "रोल कॉल"

ऑन स्ट्रीट पार्किंग (सड़क पर) का शुल्क सबसे ज्यादा होगा। ऑफ स्ट्रीट एट ग्रेड (सड़क के किनारे, लेकिन सड़क छोड़कर) पार्किंग पर उससे कम और ऑफ स्ट्रीट मल्टी लेवल पार्किंग का सबसे कम शुल्क वसूला जाएगा। मेट्रो या बीआरटी स्टेशन जितना पास होगा, पार्किंग शुल्क बढ़ता जाएगा।

पार्क एंड राइड की सुविधा स्टेशन परिसर में

पॉलिसी के मुताबिक निजी मोटर वाहनों के लिए पार्क एंड राइड की सुविधा सिर्फ मेट्रो या बीआरटी स्टेशन परिसर में ही उपलब्ध कराई जाएगी। वहीं, नॉन मोटर व्हीकल (एनएमवी) के लिए यह सुविधा पूरे टीओडी क्षेत्र में ऑन स्ट्रीट व ऑफ स्ट्रीट भी मिलेगी।

इसे भी पढ़ें-  धार नगर पालिका में कांग्रेस के पर्वत सिंह चौहान जीते

स्टेशन के आसपास नहीं होगी ऑफ स्ट्रीट पार्किंग

टीओडी नीति के तहत मेट्रो स्टेशन के बिल्कुल बगल में सार्वजनिक ऑफ स्ट्रीट पार्किंग नहीं बनाई जाएगी। वहीं ऑन स्ट्रीट पार्किंग भी कुछ समय के लिए ही होगी और इसका शुल्क भी अत्यधिक होगा। टीओडी क्षेत्र में जहां ऑफ स्ट्रीट पार्किंग भवन के पिछले हिस्से में ही बनाई जाएगी।

टीओडी क्षेत्र में बनेगी एकीकृत सार्वजनिक प्रणाली

टीओडी क्षेत्र के विकास के लिए एकीकृत सार्वजनिक प्रणाली बनाई जाएगी। इस व्यवस्था के तहत टीओडी क्षेत्रों में पैदल यात्री मार्ग, साइकिल मार्ग, साइकिल और पैदल यात्री के लिए ओवरपास, अंडरपास, सार्वजनिक खुली जगह विकसित की जाएगी।

इसे भी पढ़ें-  MP में अध्यापकों के तबादलों से रोक हटी, आठ दिन में होंगे

नीति के तहत पार्किंग स्थलों का डिजाइन इस तरह किया जाएगा कि पैदल यात्री के रूट पर मोटर वाहनों की क्रासिंग न हो। गौरतलब है कि राज्य सरकार ने श्ाहरों पर ट्रैफिक के बढ़ते दबाव और मेट्रो परियोजना के मद्देनजर ट्रांजिट ओरिएंटेड डेवलपमेंट पॉलिसी बनाई है। इसका प्रस्ताव जल्द ही कैबिनेट में रखा जाएगा।

Leave a Reply