24 जून से शुरू करूंगा हिंदुत्व के लिए नया अभियान : प्रवीण तोगड़ि‍या

इंदौर। विश्व हिंदू परिषद के पूर्व प्रमुख प्रवीण तोगड़ि‍या शुक्रवार को इंदौर पहुंचे। तोगड़ि‍या ने कहा कि आज भारतीय किसान मजदूर महासंघ के निमंत्रण पर मैं मंदसौर गोलीकांड में मारे गए किसानों को श्रद्धांजलि देने आया हूं। उन्होंने कहा कि मैं 24 जून को दिल्ली में हिंदुत्व का नया अभियान, नई संस्था से शुरू करूंगा। मैं पिछले 50 सालों में हिंदू हित का जो काम कर रहा था उसे और तेज करने जा रहा हूं।

तोगड़ि‍या ने कहा कि मैं एक दशक से ज्यादा समय तक संग

24 जून से शुरू करूंगा हिंदुत्व के लिए नया अभियान : प्रवीण तोगड़ि‍या

ठन में रहकर किसानों को विषय उठाता रहा हूं। विहिप में रहते हुए भी मैंने मंदसौर की घटना का विरोध किया था। प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर किसानों के हित की मांग की थी। मैं इन्हीं किसानों की मांग लेकर आया हूं, देशभर में 3 लाख से ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की है। जो अन्न उगाता है जिसे दुनिया खाती है और वो दुखी है तो देश खुश नहीं हो सकता।

इसे भी पढ़ें-  भोपाल में महापुरुषों की प्रतिमाओं की सुरक्षा को लेकर पुलिस अलर्ट

उन्होंने कहा कि किसान पर कर्ज भी है और वो आत्महत्या कर रहा है। ये कर्ज और ये आत्महत्या सरकार के कारण है। किसानों को लागत से डेढ़ गुना मूल्य सीटू की पद्धति से मिलना चाहिए। हिंदुस्तान में सिर्फ 6 प्रतिशत किसानों को डेढ़ गुना से मूल्य मिला है। 2014 के चुनावों में भाजपा ने वादा किया था, स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश मांगेंगे।

उन्होंने कहा कि भाजपा को अपना वचन पूरा करना चाहिए। अमेरिका में 90 प्रतिशत को चीन 70 प्रतिशत केा और भारत में 8 प्रतिशत किसानों को फसल बीमा योजना का लाभ मिलता है। भारत में बीमा कंपनियों को फसल बीमा के नाम पर लाभ दिया जाता है। तोगड़िया ने कहा विजय माल्या को 8 लाख करोड़ लेकर भागने देते हैं और किसानों से खंबो के लिए 60 हजार रुपए मांगते हैं। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री खुद किसान है, ये खंबो के पैसे हटवा दें।

इसे भी पढ़ें-  पेट्रोल पम्प परिसरों के शौचालयों का आम नागरिक भी कर सकेंगे उपयोग

प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि मंदसौर में संपर्क कर देश के किसानों के लिए लडूंगा। राम मंदिर के लिए भी लडूंगा और किसानों को कर्ज मुक्ति के लिए भी। मैं किसानों को लेकर पूरे देश में अभियान चलाने वाला हूं। विहिप सिर्फ धार्मिक मसलों पर था वो नए संगठन में जरूर होगा, किसानों समेत और भी मसले जुड़ेंगे।

उन्होंने कहा कि आरएसएस के कार्यक्रम में प्रणब मुखर्जी ने गांधी और नेहरू की विचारधारा का जिक्र किया, हम सावरकर और हेडगेवार को मानने वाले हैं। भाजपा को प्रणब मुखर्जी प्रिय है और प्रवीण तोगड़ि‍या नहीं, इसलिए संगठन बनना पड़ रहा है। मंदिर निर्माण के लिए आए चंदे का एक- एक पैसे का सही हिसाब वीएचपी ने रखा है।

Leave a Reply