सात संविदा शिक्षकों पर जाली अंकसूची मामले में दर्ज होगा धोखाधड़ी का मामला

शहडोल। जाली अंकसूची लगाकर संविदा शिक्षक वर्ग-3 की नौकरी हासिल करने वाले सात संविदा शिक्षकों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया जाएगा। इस मामले में जिला शिक्षा अधिकारी ने बीईओ को पुलिस में एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दे दिए हैं। यह मामला जिले की जनपद पंचायत ब्यौहारी का है। जनपद पंचायत ब्यौहारी में संविदा शिक्षक वर्ग-3 में हुई अनियमितता की जांच चल रही थी। जांच में यह सिद्ध हो गया है कि इन सातों शिक्षकों ने फर्जी अंकसूची के आधार पर नौकरी हासिल की है।

इनके खिलाफ दर्ज होगा प्रकरण –

जिला शिक्षा अधिकारी ने खंड शिक्षा अधिकारी ब्यौहारी को जो पत्र लिखा है उसमें श्रीमती माया चतुर्वेदी, श्रीमती सोनकली बुनकर, सहायक अध्यापक जगदीश प्रसाद तिवारी, अरूण तिवारी, लालदेव सिंह, शंकर सिंह तथा रामनरेश सिंह के नाम शामिल हैं। इन सभी ने अपनी अपनी फर्जी मार्कशीट के आधार पर नौकरी हासिल की थी। जब रिकार्ड का मिलान किया गया तो खुलासा हो गया।

इसे भी पढ़ें-  कुनो पालपुर में बब्बर शेरों की शिफ्टिंग का फार्मूला 13 मार्च को होगा तय

ये होंगे एफआईआर दर्ज करने के आधार –

जिला शिक्षा अधिकारी ने कहा है कि अरूण कुमार तिवारी ने अपना विकलांग प्रमाण पत्र ही फर्जी लगाया है। वहीं लालदेव सिंह ने जिस मार्कशीट को प्रस्तुत किया है उसमें परीक्षाफल पूरक पाया गया है। शंकर सिंह के साथ भी यही स्थिति है। रामनरेश सिंह के अभिलेखों को मिलान किया गया तो वह गलत पाया गया है। चोखेलाल प्रजापति ने डीएड की फर्जी अंकसूची लगाकर नौकरी हासिल की। इसके आधार पर इन सभी के खिलाफ अब एफआईआर दर्ज कराने को कहा गया है।

इस तरह की कमी पाई गई –

श्रीमती माया चतुर्वेदी के खिलाफ ब्यौहारी थाने में केस दर्ज है। इनकी डीएड और 12वीं की अंकसूची फर्जी पाई गई है। ये जमानत पर रिहा चल रही हैं। श्रीमती सोनकली बुनकर ने व्यापम की पात्रता परीक्षा की ही फर्जी मार्कशीट प्रस्तुत की है। ये अपने पद से त्यागपत्र दे चुकी हैं और जमानत पर रिहा हैं। जगदीश प्रसाद तिवारी की अंकसूची में जन्मतिथि गलत है।

इसे भी पढ़ें-  Whatsapp पर चल रहा था चाइल्ड पॉर्न का इंटरनेशनल रैकेट, MP से तीन गिरफ्तार

तीन लोगों के खिलाफ पहले से न्यायालय में मामला चल रहा है और ये तीनों जमानत पर हैं लेकिन पांच अन्य शिक्षकों के खिलाफ तत्काल एफआईआर दर्ज कराने के लिए बीईओ ब्यौहारी को निर्देशित किया गया है।

उमेश कुमार धुर्वे, जिला शिक्षा अधिकारी शहडोल

Leave a Reply