दो घंटे में पहुंचेंगे इंदौर से भोपाल, 6 लेन एक्सप्रेस वे का होगा रूट सर्वे

भोपाल। मध्यप्रदेश में बनने वाला पहला महत्वाकांक्षी 6-लेन एक्सप्रेस-वे कहां से निकलेगा, इसको लेकर शासन स्तर पर कवायद तेज हो गई है। नए रूट निर्धारण के लिए कंपनी का चयन हो गया है। इस मेगा प्रोजेक्ट में 120 किलोमीटर एक्सप्रेस-वे बनेगा, बाकी 35 किमी मार्ग इंदौर-हरदा रोड (एनएच) ग्राम करनावद पर जुड़ेगा। फर्राटा सड़क बनने के बाद इंदौर-भोपाल की दूरी दो घंटे में सिमट जाएगी।

सरकार का फोकस इस बात पर है कि निजी भूमि का कम से कम अधिग्रहण किया जाए। सड़क के अलाइनमेंट को लेकर बैठकों के दौर चल रहे हैं। विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन (डीपीआर) और रूट सर्वे के लिए कंपनी का चयन कर लिया गया है। फीडबैक इंफ्रा कंपनी के इंजीनियर प्रस्तावित रूट सुनिश्चित करेंगे।

इसे भी पढ़ें-  सुबह 4 बजे वायरलेस पर कॉल "माइक वन टू कंट्रोल", पुलिस मोहकमे में हड़कम्प, जानिये क्यों..

मप्र सड़क विकास निगम ने इसके लिए कंपनी को चार महीने के भीतर ही अपना काम पूरा करने का टारगेट दिया है। 2022 तक प्रोजेक्ट पूरा करने का समय तय किया गया है। यह बहुचर्चित सड़क किन-किन गांवों से गुजरेगी, इसको लेकर अभी दो-तीन विकल्पों पर विचार चल रहा है। सर्वे के बाद नक्शे में रूट सुनिश्चित कर दिया जाएगा।

शासकीय जमीन पर जोर

विभागीय सूत्रों का कहना है कि प्रदेश की पहली स्मार्ट और फर्राटा सड़क के लिए जमीन का इंतजाम करने की जवाबदारी राज्य सरकार को सौंपी गई है। इसलिए सरकार का प्रयास यही है कि ज्यादा से ज्यादा शासकीय जमीन का उपयोग हो, निजी भूमि का अधिग्रहण कम करना पड़े। ई-वेल्यूएशन के लिए कंपनी का चयन कर दिया गया है।

इसे भी पढ़ें-  कांग्रेस में मैराथन बैठकों का दौर जारी, सिंधिया ने EC की जांच पर उठाए सवाल

तीन हजार करोड़ की परियोजना

तीन हजार करोड़ रुपए की इस महत्वाकांक्षी परियोजना के लिए राज्य सरकार ने मंजूरी दे दी है। सत्ता और संगठन से जुड़े प्रमुख लोगों का प्रयास यह भी है कि विधानसभा चुनाव में इसका फायदा लेने के लिए चुनावी अधिसूचना के पहले ही भूमिपूजन का शिलालेख लगा दिया जाए। लेकिन विभागीय सूत्रों का कहना है कि इतने कम समय में डीपीआर बनना और सर्वे हो पाना संभव नहीं लग रहा।

एक्सप्रेस-वे एक नजर में

  • इंदौर-भोपाल के बीच करीब 50 किमी घट जाएगी दूरी

  • 120 किमी बनेगा एक्सप्रेस-वे, 35 किमी नेशनल हाईवे का मार्ग जुड़ेगा

  • सीधी बनेगी सड़क, नहीं रहेंगे घुमाव

  • बीच में किसी भी वाहन के लिए रहेगी नो एंट्री

  • भोपाल-इंदौर मौजूदा हाईवे से बिल्कुल अलग होगा

  • भोपाल में 11 मील, कोलार, भौंरी क्षेत्र को छूते हुए इंदौर एयरपोर्ट से जुड़ेगा

  • एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ होगी एप्रोच सड़क

  • दो दर्जन से अधिक अंडरपास और ओवरब्रिज बनेंगे

  • सड़क के दोनों तरफ 30 मीटर क्षेत्र में होगा पौधरोपण।

इसे भी पढ़ें-  एमपी BJP के प्रदेश अध्यक्ष बोले, 'चुनाव में कई विधायकों के कटेंगे टिकट'

कंपनी तय, मार्ग निर्धारण शीघ्र

भोपाल-इंदौर के बीच प्रस्तावित सिक्सलेन एक्सप्रेस-वे का अभी प्रारंभिक दौर ही है। सर्वे और डीपीआर के लिए कंपनी का चयन कर लिया गया है। यह मार्ग कहां-कहां से गुजरेगा, यह जल्दी ही तय हो जाएगा।

– अनिल चंसोरिया, प्रमुख अभियंता, मप्र सड़क विकास निगम

Leave a Reply