राहुल ने रवैया बदला, अब दुश्मन को भी गले लगाने को तैयार

इंटरनेट डेस्कः वे दिन लद गए जब राहुल गांधी कठोर थे और किसी की बात नहीं सुनते थे। पिछले कुछ महीनों से कांग्रेसजन और उनसे मिलने वालों ने कांग्रेस के नए प्रधान के व्यवहार में बड़ा परिवर्तन महसूस किया है। अब वह हर फोन करने वालों को जवाब देते हैं। पार्टी नेताओं से मुलाकात करते हैं और उन कुछ नेताओं के प्रति अपना रवैया बदल रहे हैं जिन्होंने पार्टी से दगा किया। राहुल का मिशन 2019 के लोकसभा चुनावों के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हर कीमत पर सत्ता में वापस आने से रोकना है। इस मकसद को प्राप्त करने के लिए वह अब कुछ कदम आगे जाने के भी इच्छुक हैं जैसा कि उन्होंने भाजपा नेतृत्व को आश्चर्यचकित करने के लिए कर्नाटक में किया।
Yashbharatउन्होंने कमलनाथ को पार्टी की मध्य प्रदेश यूनिट का अध्यक्ष बना दिया है, यद्यपि वह निजी तौर पर उन्हें पसंद नहीं करते। हाल ही में उन्होंने पार्टी जनों को संकेत दिया है कि वे वाई.एस.आर. कांग्रेस के नेता जगनमोहन रैड्डी के साथ संबंध बनाने की संभावनाओं का पता लगाएं। कांग्रेस पार्टी आंध्र प्रदेश में वाई.एस.आर. रैड्डी को साथ मिलाना चाहती है, बेशक कांग्रेस नेतृत्व ने जगनमोहन रैड्डी को मुख्यमंत्री पद का दावेदार स्वीकार करने से इंकार कर दिया था जिस कारण कांग्रेस खुद ही राज्य से बाहर हो गई।

इसे भी पढ़ें-  CBSE 12th Result 2018: 12वीं के नतीजे घोषित, गाजियाबाद की मेघना ने किया टॉप

Yashbharat
अब राहुल गांधी ने संकेत दिया है कि कांग्रेस वाई.एस.आर. कांग्रेस के साथ संबंध बनाने की इच्छुक है। इस रणनीति के तहत ही दिग्विजय सिंह को आंध्र प्रदेश के प्रभारी पद से हटा दिया गया है और केरल के पूर्व मुख्यमंत्री ओमान चांडी को पार्टी का महासचिव प्रभारी नियुक्त किया गया है। चांडी वाई.एस. चंद्रशेखर रैड्डी के बहुत करीब हैं। राहुल गांधी इसी तरह की रणनीति हर राज्य में अपना रहे हैं। उनका मकसद भाजपा को हर कीमत पर सत्ता से हटाना है।

Leave a Reply