सर्वार्थ सिद्धि योग में 23 घंटे 7 मिनट रहेगा खरीदी का महामुहूर्त

इंदौर महालक्ष्मी पूजन के पर्व दीपावली के 6 दिन पहले खरीदी का महामुहूर्त पुष्य नक्षत्र इस बार सर्वार्थ सिद्धि योग में 23 घंटे 7 मिनिट रहेगा। 13 अक्टूबर शुक्रवार को नक्षत्रों का राजा पुष्य सुबह 7.46 से अगले दिन 14 अक्टूबर शनिवार को सुबह 6.53 बजे तक रहेगा।

शुक्रवार को दिनभर और शनिवार को उदयातिथि में पुष्य नक्षत्र होगा। ज्योतिर्विदों के मुताबिक पुष्य नक्षत्र में खरीदी गई संपत्ति स्थायी लाभ प्रदान करती है। ज्योतिर्विद् श्यामजी बापू के अनुसार चंद्रमा अपनी स्वराशि कर्क में रहेगा। पुष्य नक्षत्र बृहस्पति का नक्षत्र कहलाता है। गुरु व चंद्रमा व्यक्ति के जीवन पर विशेष प्रभाव डालते हैं। इस संयोग में की गई खरीदी चिर स्थायी फल प्रदान करने वाली है।

पं. ओम वशिष्ठ के अनुसार पुष्य नक्षत्र 27 नक्षत्रों में सबसे अधिक शुभ फल प्रदान करने वाला नक्षत्र है। इसमें सोने-चांदी के साथ खरीदी गई वस्तुएं विशेष फल प्रदान करती हैं। इस बार कार्य में सिद्धि देने वाले सर्वार्थ सिद्धि योग के रहने से पुष्य नक्षत्र का महत्व और भी बढ़ गया है। कर्क का चंद्रमा शीतलता प्रदान करेगा।

शुक्र पुष्य में किस समय क्या खरीदें

– लाभः सुबह 7.51 से 9.17 : स्थायी संपति मकान, दुकान और जमीन के सौदे।

– अमृतः सुबह 9.18 से 10.43 : सोना-चांदी, आभूषण, हीरा, पन्नाा सहित बहुमूल्य धातु।

– शुभः दोपहर 12.10 से 1.37 : इलेक्ट्रॉनिक सामग्री, बही-खाते, स्वर्णाभूषण, प्रॉपर्टी आदि।

– चरः शाम 4.30 से 5.57 बजे तकः चल संपत्ति वाहन, मशीन, इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *