कर्नाटक से दिल्ली तक सियासी तूफ़ान, भाजपा की शपथ रोकने कांग्रेस पहुंची SC, बैठक में 12 विधायक गायब

बेंगलुरु। चुनावी नतीजों के बाद उलझे कर्नाटक में लगभग तीस घंटे की खींचतान के बाद यह तय हो गया कि ताज भाजपा के येद्दयुरप्पा के सिर बंधेगा।

बुधवार की देर रात राज्यपाल वजुभाई वाला ने सबसे बड़ी पार्टी के नेता के तौर पर येद्दयुरप्पा को सरकार गठन का आमंत्रण दे दिया है।

माना जा रहा है कि बिना देर किए येद्दयुरप्पा गुरुवार की सुबह ही मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। अगले 15 दिनों में उन्हें विधानसभा में बहुमत साबित करना होगा।

फैसले के खिलाफ सुप्रीमकोर्ट गई कांग्रेस-

राज्यपाल के न्यौते के बाद कांग्रेस ने इस लोकतंत्र की हत्या बताया। कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट के रजिस्ट्रार के पास अर्जी दाखिल कर इसकी तत्काल सुनवाई की मांग की है। रात में ही SC पहुंची कांग्रेस ने नई सरकार के शपथग्रहण पर रोक लगाने की मांग की है। अब रात में सुनवाई करने का फैसला सीजेआई के विवेक पर निर्भर है।

इसे भी पढ़ें-  PM मोदी की एक चाल,...और किंग मेकर बनते-बनते रह गए देवगौड़ा

कांग्रेस की बैठक में नहीं पहुंचे 12 विधायक

उधर कांग्रेस विधायक दल की बैठक में 78 में 66 विधायक ही पहुंचे। यानी 12 विधायक नदारद रहे। वहीं जदएस के भी दो विधायकों के गायब होने की खबर है। हालांकि दोनों दलों ने दावा किया है कि ये विधायक पार्टी के संपर्क में हैं। कोई विधायक गायब नहीं है। पार्टी के विधायको को 40 किमी दूर एक रिसार्ट में रखा गया है।

Leave a Reply