जेडीएस-कांग्रेस ने किया सरकार बनाने का दावा पेश, भाजपा की मुश्किलें बढीं

बेंगलुरु। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजों में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला। हालांकि, भाजपा 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी लेकिन बहुमत से अब भी 8 सीट दूर है। वहीं कांग्रेस ने जेडीएस को समर्थन देकर बहुमत का आंकड़ा जुटा लिया है। अब सब कुछ राज्य के राज्यपाल के हाथ में हैं। सिलसिलेवार तरीके से पढ़ें बुधवार का अब तक का पूरा घटनाक्रम-

  • गठबंधन कर सरकार बनाने के लिए बहुमत होने का दावा कर रही जेडीएस और कांग्रेस के नेता विधायकों ने मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया है।
 – भाजपा नेता जेपी नड्डा, धर्मेंद्र प्रधान, अनंत कुमार और मुरलीधर राव ने विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के घर जाकर मुलाकात की।– कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि हम दोपहर 12.30 बजे से राज्यपाल से मिलने का वक्त मांग रहे हैं। हमने उन्हें दो पत्र सौंपे हैं जिनमें से एक कांग्रेस विधायकों का है और दूसरा जेडीएस विधायकों का।

इसे भी पढ़ें-  IPL क्वालिफायर से पहले महिला टी-20 चैलेंज में स्मृति, हरमनप्रीत करेंगी कप्तानी

– आजाद ने कहा कि विधायक चुराने की मंजूरी नहीं है। कोई भी राज्यपाल संविधान के विरोध में नहीं जा सकता। हमें उन पर पूरा विश्वास है कि वो अपनी जिम्मेदारी निभाएंगे।

– भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार येदियुरप्पा ने बुधवार सुबह 10.30 बजे विधायक दल की बैठक में हिस्सा लिया, जहां उन्हें दल का नेता चुन लिया गया। इसके बाद वे राज्यपाल से मिले और सरकार बनाने का दावा पेश किया।

– राजभवन से बाहर आने के बाद येदियुरप्पा ने कहा, हमने राज्यपाल के सामने अपनी बात रखी है। उन्होंने (राज्यपाल) ने कहा है कि वे विचार करने के बाद सूचना देंगे।

– पार्टी विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद जेडीएस के कुमारस्वामी ने कहा, मुझे भाजपा और कांग्रेस, दोनों तरफ से समर्थन का ऑफर था। मैंने 2004 और 2005 में भाजपा के हाथ मिलने का फैसला किया था और यह फैसला मेरे पिता एचडी देवेगौड़ा के माथे पर काले धब्बे की तरह था। भगवान में अब मुझे यह काला दाग मिटाने का मौका दिया है। इसलिए मैंने कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने का फैसला किया है।

इसे भी पढ़ें-  भगवान राम से जुड़े स्थलों के दर्शनों के लिए भारतीय रेल चलाएगी ‘श्री रामायण एक्सप्रेस’

– कुमारस्वामी ने यह आरोप भी लगाया कि उनकी पार्टी के विधायकों को भाजपा की ओर से 100-100 करोड़ रुपए और कैबिनेट बर्थ का लालच दिया जा रहा है। कुमारस्वामी ने कहा, वे कांग्रेस नेताओं के साथ राजभवन जाएंगे और सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे।

– वहीं केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता प्रकाश जावड़ेकर ने 100 करोड़ का लालच दिए जाने के कुमारस्वामी का आरोप को खारिज करते हुए कहा कि ये बातें मनगढंत हैं। इस तरह की राजनीतिक कांग्रेस करती है।

– कांग्रेस और जेडीएस ने अपने विधायकों के दस्तखत वाला एक पर्चा तैयार किया है, जिसे शाम तक राज्यपाल के समक्ष पेश किया जाएगा। इस तरह ये दोनों दल सरकार बनाने का अपना दावा पेश करेंगे।

इसे भी पढ़ें-  बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पोस्टर में अलगाववादी नेता आसिया अंद्राबी की फोटो छपी

– इससे पहले भाजपा नेता प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि भाजपा लोकतांत्रिक तरीके से सरकार बनाएंगी। बकौल जावड़ेकर, कांग्रेस के कई विधायक बात से नाखुश है कि पार्टी जेडीएस से गठबंधन कर रही है।

– बड़ी खबर यह है कि बेंगलुरू के एक पांच सितारा होटल में हो रही जेडीएस विधायक दल की बैठक में दो विधायक नहीं पहुंचे हैं। इन दो विधायकों के नाम हैं – राजा वेंकटप्पा नायक और वेंकट राव नाडागौड़ा।

– इसी तरह कांग्रेस विधायक दल की बैठक में भी 78 में से 66 विधायक ही पहुंचे हैं। हालांकि कांग्रेस नेता एमबी पाटिल का कहना है कि कांग्रेस के सभी विधायक साथ हैं। उनके मुताबिक, भाजपा के 6 विधायक कांग्रेस के सम्पर्क में हैं।

– एएनआई के मुताबिक, कर्नाटक में केपीजेपी पार्टी का विधायक आर शंकर बेंगलुरू में राज्यपाल भवन में भाजपाई खेमे में नजर आया है। नीचे देखें तस्वीर (तिलकधारी

Leave a Reply