जंगल में चौकी बैठाई, आत्मा बुलाई व पेट्रोल पंप संचालक से ठगे पौने दो करोड़

इंदौर। 5 लाख 50 हजार के बदले 300 करोड़ रुपए की बारिश का झांसा देकर बहरूपियों ने पुणे के पेट्रोल पंप संचालक से 1 करोड़ 75 लाख रुपए ठग लिए। आरोपित पंप संचालक को जंगल में ले गए। वहां पूजा की चौकी के सामने बैठा दिया। अंधेरे में आत्मा बनकर दो ठग आए और नोट बरसाने लगे। कुछ देर बाद एक आत्मा जुबान निकाल कर लेट गई। पंप संचालक डर कर भाग गया। ठगोरों ने अनहोनी की धमकी दी और किस्तों में उससे 1 करोड़ 75 लाख से अधिक रुपए ऐंठ लिए।

सांघी कॉलोनी (पुणे) निवासी राकेश धर्मसिंह राणा पिछले दिनों स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) एसपी अरुण मिश्रा के पास पहुंचा और बताया कि उसका पेट्रोल पंप है। मार्च 2017 में दोस्त राजू ने बताया कि बदनावर (धार) के ‘गुरुजी” रुपए की बारिश करते हैं। उसने सिरपुर (महाराष्ट्र बॉर्डर) पर विजय गुरु, अशोकनाथ उर्फ शौकीन व पिंटू गुप्ता से मुलाकात करवाई।

इसे भी पढ़ें-  किसान आंदोलन को लेकर एमपी सरकार अलर्ट, किसान नेताओं पर नजर

गुरु ने कहा कि 5.50 लाख की व्यवस्था कर लो। इसके बदले 300 करोड़ की बारिश करवा दूंगा। राकेश झांसे में आ गया और रुपए लेकर गुरु के पास पहुंचा। वह उसे उज्जैन के आफताब के पास ले गया। उसने पूजा के लिए जड़ी-बूटियों से बनी दवाई खरीदी और राकेश को रूपाखेड़ा व सुल्तान के जंगलों में ले गया। राकेश को फूलों की माला पहना दी और पूजा की चौकी के सामने बैठा दिया।

कुछ देर बाद दो युवक हू… हू की आवाज करते हुए आए। उन्होंने काले कपड़े पहने थे। बाल भी लंबे-लंबे थे। जुबान लटक रही थी। गुरु ने कहा दोनों आत्मा हैं। नोटों की बारिश करने आई है। गुरु ने दवाई का भोग लगाया। उनकी पूजा की और राकेश को आशीर्वाद दिलाया। कुछ देर बाद आत्मा डरावनी आवाज निकालने लगी। गुरु ने कहा आत्मा गुस्सा हो गई। नोटों की व्यवस्था करनी पड़ेगी।

इसे भी पढ़ें-  कमलनाथ के बयान पर एमपी में सियासी तूफान, BJP ने बताया अमर्यादित

पेट्रोल पंप बेचा, पत्नी के जेवर गिरवी रखे

इसके बाद राकेश स्र्पयों के इंतजाम में लग गया। दोस्त राजू पाठक से 18 लाख, शिवाजी वाइकर व अनिल देशमुख से 40 लाख उधार लिए व ठगोरों को दे दिए। और स्र्पए मांगे तो 1 करोड़ में पेट्रोल पंप बेच दिया, पत्नी के जेवरात गिरवी रख दिए। इस तरह करीब 1 करोड़ 75 लाख रुपए ठगोरों को दे दिए। यह सब दो माह तक चलता रहा। स्र्पए मिलने के बाद उसने राकेश को नोटों से भरी पेटी दी और कहा कि कुछ दिनों बाद ताला खोल लेना। 15 दिन बाद उससे पानी निकलने लगा। शक होने पर ताला खोला तो कुछ नहीं था। जब गुरु के पास आकर पूछा तो उसने कहा कि आत्मा नाराज हो गई। उसने नोटों को पानी में बदल दिया।

इसे भी पढ़ें-  सुप्रीम कोर्ट ने बहाल किए मप्र हाईकोर्ट द्वारा निरस्त 63 एमबीबीएस दाखिले

ठगोरों में होटल संचालक भी शामिल, पूछताछ

एसपी ने जांच के लिए टीम का गठन किया है। ठगी में बदनावर के होटल संचालक अशोक का नाम भी सामने आया है। टीआई एसएल बौरासी ने शनिवार को दबिश दी और अशोक को पकड़ लिया। उससे पूछताछ चल रही है।

Leave a Reply