उच्च शिक्षा विभाग ने खत्म की समय-सीमा में डिग्री पूरी करने की बाध्यता

सागर। उच्च शिक्षा विभाग ने समय-सीमा में यूजी-पीजी की डिग्री पूर्ण करने की बाध्यता को खत्म कर दिया है। इस संबंध में विभाग ने सोमवार को सभी शासकीय विवि और कॉलेजों को आदेश जारी कर दिए हैं। अब विद्यार्थी डिग्री पूर्ण होने तक पढ़ाई कर सकेंगे।

पांच वर्ष में यूजी की डिग्री पूर्ण न होने पर विद्यार्थी को एक वर्ष का एक्सटेंशन मिलेगा और यदि तब भी डिग्री पूर्ण नहीं हुई तो विद्यार्थी को स्वाध्यायी छात्र के रूप में आगे पढ़ाई करनी होगी, लेकिन पढ़ाई छोड़ने का डर अब नहीं रहेगा।

एक वर्ष के एक्सटेंशन के लिये विद्यार्थी को कुलपति से अनुमति लेनी होगी। इसके बाद निर्धारित शुक्ल जमा कर विद्यार्थी पढ़ाई पूरी कर सकेगा। पीजी में विद्यार्थी अब तीन वर्ष की जगह चार वर्ष में डिग्री पूर्ण कर सकेंगे और उन्हें भी इसके बाद एक वर्ष का एक्सटेंशन दिया जाएगा।

पहले समय सीमा में करनी होती थी डिग्री पूरी

इसके पहले यूजी-पीजी के विद्यार्थियों को समय सीमा में ही डिग्री पूरी करनी होती थी। समय-सीमा में डिग्री पूरी न करने वाले विद्यार्थियों का प्रवेश स्वत: ही निरस्त माना जाता था।

इससे कुछ विद्यार्थी आगे पढ़ाई नहीं कर पाते थे, लेकिन अब ऐसे विद्यार्थी भी अपनी डिग्री को पूरा कर सकेंगे। यूजी के विद्यार्थी अधिकतम 6 वर्ष और पीजी के विद्यार्थी अधिकतम 5 वर्ष में डिग्री पूरी कर सकेंगे। इसके बाद डिग्री पूरी न करने वाले विद्यार्थियों को प्राइवेट विद्यार्थी के रूप में आगे पढ़ाई करनी होगी।

क्रेडिट का भी मिलेगा लाभ

समय-सीमा में डिग्री पूरी न करने वाले विद्यार्थी अब आगे पढ़ाई करेंगे तो उन्हें क्रेडिट प्वाइंट का लाभ भी मिलेगा, लेकिन प्रवीण्य सूची में उनका नाम शामिल नहीं किया जाएगा। पूर्व में दिए गए प्रश्न-पत्र के अंक और क्रेडिट का लाभ प्राइवेट विद्यार्थी के रूप में छात्र उठा सकेंगे।

पाठ्यक्रम में परिवर्तन होने पर एक्सटेंशन मिलने वाले छात्रों को नए पाठ्यक्रम के हिसाब से ही आगे पढ़ाई करनी होगी। अलग से कोई प्रावधान इन विद्यार्थियों के लिये नहीं किया जाएगा। विभाग का यह निर्णय सिर्फ सामान्य पाठ्यक्रमों पर ही लागू होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *