सावधान! कुआं-करौदी जंगल के आसपास रहें सतर्क

बरही/कटनी। अगर आप बाइक से कुआं, खितौली व झिरिया नर्सरी की तरफ सफर कर रहे हैं, तो सावधान हो जाइए। पूरी सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। जी हां कभी भीए किसी भी वक्त यहां बाघ.बाघिन व शावको से सामना हो सकता है।

मंगलवार की दोपहर से बरही वनपरिक्षेत्र के कुआँ गांव से सटे जंगल सिद्धमहाराज के समीप व पिपरिया मार्ग में बाघिन व उसके शावको की चहल कदमी बनी रहीए तो वही रात 9 बजे बाघ कुआं गांव में बने अवधेश मिश्रा के घर के पास पहुंच गया, जो वहां बैठे मवेशियों का शिकार करने के प्रयास में थाए एकत्रित हुए ग्रामीणों ने शोर मचाया तो बाघ सड़क पार कर मचमचा की ओर चला गया। रातभर कुआँ गांव के ग्रामीण दहशत के साए में थे।खबर मिलते ही रेंजर वन अमले के साथ मौके पर पहुँच गए। रात भर वन अमला पेट्रोलिंग करने में जुटा रहा।

शाम को लगा रहा मजमा
कुआँ जंगल मे सड़क किनारे बाघ के बैठे होने की खबर से तमाशाबीनो की भीड़ पहुँची हुई थी। वनराज मस्ती के मूड़ में इत्मीनान से बैठे हुए थे। मंगलवार की शाम यह माजरा घंटो चलता रहा। मौके पर पहुँची बरही पुलिस व वन विभाग के अधिकारी लोगो को सतर्क व सावधानी बरतने की हिदायत देते रहे। गौरतलब है कि 3 दिन पूर्व ही लकड़ी बीनने गई झल्ली बाई चौधरी के ऊपर हमला कर बाघ ने उसे मौत के घाट उतार दिया थाए अब उसी स्थान के आस.पास दिनभर बाघ की दस्तक होने से खासतौर पर कुआँ गांव के ग्रामीण खासे दहशत में है। यही स्थिति झिरिया नर्सरी के आस.पास की है।

Leave a Reply