इन 10 देशों में बेहतर शिक्षा मिलती है नाममात्र के खर्च पर

भोपाल। विदेशों में बेहतर शिक्षा लेना हर किसी का ख्वाब होता है, लेकिन भारीभरकम खर्च की वजह से स्टूडेंट्स का ख्वाब हकीकत में बदलने से पहले ही दम तोड़ देता है। इसके बावजूद दुनिया में कुछ देश ऐसे भी हैं, जो कम खर्च पर बेहतर शिक्षा देने के लिए जाने जाते हैं।

भारत देश में जहां सरकारी संस्थानों में उच्च शिक्षा सस्ती तो है पर प्रवेश कठिन है, वहीं निजी संस्थानों में फीस के रूप में मोटी रकम चुकानी पड़ती है। ऐसी स्थिति में दुनिया के कुछ देशों में हायर स्टडीज के लिए फीस बहुत कम या तो ली ही नहीं जाती है। भारतीय स्टूडेंट्स भी वहां आसानी से पढ़ाई कर सकते हैं। आइये दुनिया के उन 10 देशों के बारे में जानते हैं।

इसे भी पढ़ें-  'महिला को लगातार 15 सेकंड नहीं देख सकते, बेहद सख्त सजा है'

स्पेन-

यूरोपीय संघ के नागरिकों को मुफ्त यूनिवर्सिटी एजुकेशन ऑफर करता है और यूरोपीय संघ के बाहर के छात्रों से बहुत ही मामूली फीस ली जाती है।

ग्रीस-

ग्रीस में विदेशी छात्रों को बहुत किफायती शिक्षा मुहैया कराई जाती है और वहां रहन-सहन का खर्च भी बहुत कम है।

बेल्जियम-

बेल्जियम में विदेशी छात्रों को नाममात्र फीस देनी पड़ती है जो छात्रों को जेब पर भारी नहीं लगती है।

फ्रांस-

फ्रांस में हायर एजुकेशन लगभग मुफ्त है। सिर्फ कुछ पब्लिक यूनिवर्सिटीज में फीस लगती है, वह भी मामूली।

चेक गणराज्य-

यहां सभी देश के नागरिकों के लिए शिक्षा मुफ्त है,लेकिन इंग्लिश में पढ़ने के लिए करीब 70,000 रुपए फीस देनी पड़ती है।

इसे भी पढ़ें-  गुरुवार को होगा लालू यादव की सजा का ऐलान, कोर्ट से वापस लौटे जेल

फिनलैंड-

फिनलैंड में पहले किसी भी देश के नागरिक से कोई ट्यूशन फीस नहीं ली जाती थी,लेकिन 2018 से इंग्लिश में पढ़ाए जाने वाले बैचलर्स और मास्टर्स प्रोग्राम के लिए मामूली फीस ली जाती है।

ऑस्ट्रिया-

इसमें यूरोपीय यूनियन के बाहर के छात्रों को करीब 55,000 रुपए फीस देनी पड़ती है जो काफी कम है।

स्वीडन-

स्वीडन की यूनिवर्सिटियां ईयू, ईईए और नॉर्डिक देशों से बाहर के नागरिकों से ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम्स के लिए ऐप्लिकेशन और ट्यूशन फीस लेती हैं।

नॉर्वे-

ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट और डॉक्टोरेट लेवल के प्रोग्राम्स पूरी तरह मुफ्त हैं, लेकिन आपको नॉर्वे की भाषा नॉर्वेगियन पर दक्षता हासिल होनी चाहिए, क्योंकि ज्यादातर अंडरग्रेजुएट कोर्स इसी भाषा में पढ़ाए जाते हैं।

इसे भी पढ़ें-  अयोध्या में पूजा का हक मांगने वाली याचिका पर सुनवाई से SC का इनकार

जर्मनी-

जब मुफ्त या न के बराबर खर्च में शानदार हायर एजुकेशन की बात आती है तो जर्मनी इस लिस्ट में टॉप पर है। वहां मात्र 11,500 से लेकर 19,000 रुपए तक ऐडमिनिस्ट्रेशन फीस के तौर पर लिया जाता है।

Leave a Reply