300 रूपए लेकर बनाया गरीब का आधार कार्ड, गांधी द्वार ऑनलाइन कम्प्यूटर सेंटरों में लुट रहे नागरिक

कटनी। गांधीद्वार में आधार कार्ड से संबंधित कार्यों के लिए गरीबों से 300-300 रूपए तक की वसूली की जा रही है। आधार कार्ड को बैंक सहित अन्य सुविधाओं के लिए अनिवार्य किए जाने के बाद बड़ी संख्या में शहर और ग्रामीण क्षेत्रों से लोग आधार कार्ड बनवाने के लिए गांधी द्वार पहुंच रहे हैं, जहां ऑनलाइन कम्प्यूटर सेंटरों के संचालकों द्वारा उनसे 300-300 रूपए तक की वसूली की जा रही है।

लगातार शिकायतें मिलने के बाद भी प्रशासन द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। गौरतलब है कि आधार कार्ड को बैंक खातों सहित अन्य सेवाओं के लिए जरूरी कर दिया गया है लेकिन अभी भी एक बहुत बड़ी आबादी के पास आधार कार्ड नहीं है।

इसे भी पढ़ें-  नर्मदा प्रदूषण मामले में दिग्विजय सिंह की जांच अब नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण इंदौर कार्यालय को

जिसके चलते बड़ी संख्या में लोग प्राईवेट सेंटरों में पहुंचकर आधार कार्ड बनवा रहे हैं और लूट का शिकार हो रहे हैं। ऐसा ही एक मामला आज उस समय सामने आया, जब स्थानीय गांधी द्वार स्थित एक कम्प्यूटर सेंटर संचालक ने एक गरीब व्यक्ति से तत्काल आधार कार्ड बनवाने के लिए 300 रूपए ले लिए। बताया जाता है कि यहां पर सुबह से ही बड़ी संख्या में लोग आधार कार्ड बनवाने के लिए पहुंच रहे हैं, जिसमे स्कूली बच्चों के साथ बुजुर्ग भी शामिल है।

इनका कहना है
इस संबंध में जब कलेक्टर व्ही एस चौधरी से बात की गई तो उनका कहना था कि आधार कार्ड पंजीयन, अपडेट और डुप्लीकेट कॉपी निकालने का कार्य केवल शासकीय परिसरों में ही किया जा सकता है। सरकार द्वारा प्राईवेट दुकानों में इस तरह के कार्य पर रोक लगा दी गई है। आगामी 31 मार्च से प्राईवेट सेंटरों पर आधार कार्ड से संबंधित कार्य बंद हो जाएंगे। आधार कार्ड बनाने के लिए निर्धारित से अधिक फीस की शिकाायत की जांच कराई जाएगी। कलेक्टर ने बताया कि कटनी जिले में अगले एक-दो दिनों में आधार कार्ड बनाने के लिए 6 नए सेंटर खोले जा रहे हैं, जिसमे कलेक्टर कार्यालय, ब्लाक और रजिस्ट्रार कार्यालय में दो-दो खोलकर आधार कार्ड बनाने का कार्य किया जाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि जिले में 20 मशीनों की मांग की गई है। कलेक्टर ने यह भी बताया कि गांधीद्वार की तीनों दुकानों शुभ ऑनलाइन, सोनू ऑनलाइन व डायमंड ऑनलाइन को आखिरी चेतावनी दी गई है। अब इनके विरूद्ध शिकायत प्राप्त होती है तो इनकी मशीनें जब्त करते हुए ऑपरेटर एवं मशीनें डीराजिस्टर्ड करने की कार्यवाही एमपीएसईडीसी द्वारा की जाएगी।

Leave a Reply